“महबूब” ना तेरा साथ मिला ना ही तू हमसफर बना कुमारी किर्ती अमृता आशा

साथ थे हम कभी  ये बाते अब पुरानी है..
सपने  बहुत से थे मेरे
की बितानी तेरे संग ये ज़िंदगानी है..

पर ना तेरा साथ मिला 
ना ही तू हमसफर  बना..
सब मिला इस जीवन  में  
पर जो तू ना मिला तो
 कुछ भी  ना मिला..

क्या याद है तुम्हे  
वो सुबह ज़ब हमारी होती थी बाते , 
और फिर बातो में  ही बीत जाती थी राते,
भीग जाती है आज भी मेरी पलके 
ज़ब भी सोचती हूँ 
मै तेरे संग बिताया हुआ हर एक पल ..

ज़िन्दगी के सफर में  
तेरे संग चल सकूँ ये ख्वाब थे मेरे
कुछ भी  नहीं चाहा था मैंने 
सिवाए  एक तेरे..

मुझे याद तेरी हर एक बात, 
तेरी वो मनमोहक भरी  मुस्कान,
तेरी शरारत भरी आंखे ,
मेरे लिए तुम्हारी प्यार भारी वो  बाते..

जी रही हूँ मैं तेरे बिन पर 
पर इस जिंदगी  में  जिंदगी नहीं है..
काश की कुछ ऐसा हो जाता..
तू भी रोता मेरे लिए 
जैसे मेरी आँखे  बरसती  है तेरे लिए..

जाने कैसे रह लेता है    तू   मेरे बिन,
मूझे तो ऐसा लगता है जैसे 
मैं तो  जिन्दा ही नहीं हूँ तेरे बिन..

क्या दुआ क्या बदुआ दूँ मैं  तुम्हें.
मेरी मोहब्बत हो और 
  ताउम्र रहोंगें  तुम,
बस यही बात ना समझ आयी तुम्हें  ।
तुम जहां भी रहो जिसके साथ भी रहो
खुश रहो  बस यही चाहत है मुझे..
मैं रहूँ या ना  रहूँ तुम्हारे साथ 
अब कोई फ़र्क ही कहा पड़ता है तुम्हें .।

कुछ सपने दिखाए थे मुझे तुमने 
इस बेजान दिल मे कुछ  खवाइशें जगाए थे तुमने ,
साथ रहने का फैसला भी सुनाया था तुमने 
ऐसी क्या खाता हो गयी मुझसे बस इतना बता दो ?
तन्हा छोड़ मुझे अकेले रहने का भी 
फैसला  मुझे सुनाया था तुमने ..

साथ रहने का भी फैसला तेरा था,
कुछ हसीन ख्वाब,
कुछ खवाइशें ,
कुछ मुलाकातें ,
मेरे जिंदगी के हर फैसले 
सब तुम्हारे ही तो थे..
और तुमने ..
मेरी मोहब्बत का ऐसा सिला दिया ,
साथ  रहने का वादा  कर  तन्हा छोड़ दिया ..

चले गए छोड़ मुझे तुम कोई बात नहीं 
सिर्फ इतना बताते  जाते .. 
ज़ब सब कुछ तेरा था तो मेरा क्या था ?
और मैं  क्या थी ?
तेरी आज़माइश ,
तेरी मोहब्बत या ,
बस चंद पालो की साथी..
क्या थी मैं ?

कुमारी किर्ती अमृता आशा
 जमालपुर  (मुंगेर )
बिहार

4 thoughts on ““महबूब” ना तेरा साथ मिला ना ही तू हमसफर बना कुमारी किर्ती अमृता आशा”

  1. To good poetry buddy 😊,yeah it's happens sometimes that love is not complete and it's ending is not always happy…..♥️♥️you write awesome poetry so, you can always continue to write ….😊😊

  2. Woow kya khoob likha hai apne Mano aisa lag rha jaise sare dil ke dard ko shabdo me likh diya hai 😊😊😊
    Maine apki sabhi post ko padha jo kafi achhi hai ..👍👌👌👌👌
    Aise hi likhte rahiye ..aur happy rahiye 😊

  3. Aisa lgta h aapne sari feelings sari emotions es m daal di 😊😊… Aapki baato m dard h emotions h sachai h.. Mujhe bhut achi lgi aapki sari post

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top