रुला देने वाली दर्द भारी शायरी एक बार जरूर पढे

“आजाद कर दिया आज तुम्हें 
इश्क की जंजीरों से,
कोई फर्क नहीं पड़ता अब मुझे 
तेरे होने और ना होने से ।।”

“आज कल हर वक्त मेरे ही मोहल्ले से  
गुजरने लगे हो,
गुजरते मेरे करीब से मुझे ही 
नजरअंदाज  करने लगे हो।।”

“हालातों का तवज्जा दे कर 
ना छोड़ों मुझे तुम,
हर हालात में साथ दूँगा 
एक बार मुझसे कहों तुम ।।”

दिल टूट जाने पर ये जो जाम का प्याला  
होठों से लगा रहे हो ,
जो छोड़ गई तन्हा उसकी यादों में खुद का
 वजूद क्यों मिटा रहे हो ?

“मिल सके ना हम एक दूजे से तो क्या हुआ,
एहसास का दामन भी प्यार से कम नहीं होता।।”

“जिस-जिस को हमने दिल से चाहा   
वह हमसे दूर हुए.
 इसे हम अपनी चाहत की कमी समझे   या
 अपनी बदनसीबी “
 
“रूबरू हो जाना खुद से  
थोड़ा सा मुस्कुरा के।
यहां दिल में बसा कर लोग 
बस इग्नोर करते हैं।।”

“सब जा रहे हैं तन्हां छोड़ मुझे 
तुम भी  चली जाओगी क्या?
बड़ी मुश्किल से संभाला है खुद को 
बचा हुआ दिल भी   तोड़ जाओगी क्या?”

 “छोड़ जाओगी मुझे इस भीड़ की तनहाई में,
कैसे कटेगी जिंदगी मर जाएंगे सनम तेरी जुदाई में।।”
“दिल से निकल गए वो अब भूल से भी 
उनकी  मुझे याद आती नही,
जिन्हे सोच मुस्कुरा देते थे उनको  
सामने देख भी  लबों पर मुस्कान आती नही।।

“मेरे आंखों से भी आंसू छलकते हैं 
अब मुझसे  छुपाये नहीं जाते, 
इश्क है तो खामोशी भी पढ़ो 
हर बात लफ्जों से  बताये नही जाते.!”

मुझे छोड़ जाने की कोई वजह ना  मिलेगी,
फिर भी छोड़ दिया तन्हा तो…
मेरे दिल के सिवा तुम्हे किसी और दिल में,
फिर जगह ना मिलेगी..।।

कभी बहते हुए आंसुओं में भी मुस्कुरा देते हैं,
तो कभी मुस्कुराते हुए भी आंसू बहा देते हैं..।।


“ना कलम से रिश्ता तोड़ा है 
ना नया कोई  रिश्ता मोड़ा हैं।
पहले इश्क से इश्क था 
हमे अब इश्क  करना ही छोड़ा हैं ।।”

“हमें प्यार में बदनाम कर वो खुश है 
अब किसी और के साथ 
 अब तो हमारी भी यही ख्वाहिश है 
वो खुश रहे किसी और के साथ”।।

“तेरे मुस्कुराते हुए चेहरे पर, 
कभी गम का साया न हो….. 
 जिस रात धड़के तेरे बिना ये दिल 
उस रात के बाद कभी सवेरा न हो”

“अल्फाज नहीं है दिल का हाल बताने के लिए 
प्यार पास नहीं है यह जताने के लिए
बहुत सुकून मिलता है उनके पास होने से ,पर
अब वह साथ नहीं है यह बताने के लिए”

देखना इश्क की समुंदर में एक दिन डूब जाओगी,
आईने कि सामने बैठ तुम बेवजह ही मुस्कुराओ गी।
इतनी नफरत है मुझ दीवाना से आज तुम्हें देखना,
एक दिन मुझे खुद ही दिल देने को मचल जाओगी।।

“तु दिल से ना जाए तो मैं क्या करूं 
 तुम ख्यालों से ना जाए तो मैं क्या करूं
 कहते हैं ख्वाबों में होगी मुलाकात 
 पर नींद ना आए तो मैं क्या करूं”

“यूं नजरों से नजरें से नजरें मिला या ना करें 
  ऐसे तीर दिल पर दिल पर चलाया ना करें 
  होती है तकलीफ बहुत इस दिल को 
  यूं ख्वाबों में आकर ऐसे तड़पा या ना करें”

“चाहत में तेरी दुनिया भुला दिया 
 तेरी हर एक अदा पर मुस्कुरा दिया, 
 क्या कसूर था मेरा ऐ सनम…
 जो एक पल में तूने मुझे भुला दिया “

“मुहब्बत की बस्ती में जाकर तो देखो
 दिल में किसी को बसा कर तो देखो, 
 करेंगी आबाद या कर देगी तुम्हें बर्बाद
 एक बार किसी से दिल लगाकर तो देखो”

“तेरे खफा होने से डर लगता है 
 तेरे जुदा होने से डर लगता है 
 करता हूं तुझसे इतनी मोहब्बत की 
 बस तुझे खोने से डर लगता है”

आंखों में उनके इस कदर बस जाएंगे 
दूर रहेंगे फिर भी पास नजर आएंगे 
हो जाएगा उनको मुझसे इतना प्यार 
ख्वाब समझ कर भी मुझे भूल ना पाएंगे ।।

दिया था दिल जिन्हें दिलदार समझकर
खेल गई दिल को खिलौना समझकर
हम भी भूल जाएंगे उन्हें एक दिन
नींद में देखे हुए एक ख्वाब समझ कर ।।

पता था मुझें एक दिन दिल तोड़ दोगी तुम,
भारी महफ़िल में भी मुझे तन्हां छोड़ दोगी तुम।
दिल लगता नही तेरे बिन एक पल मेरा,
क्या सब जानते हुए मुझसे मुख मोड़ लोगी तुम।।

देखो ना आज कितने अल्फ़ाज़ निकल रहे है,
इस जुदाई के घड़ी में दिल के जज़्बात निकल रहे है।
पता है हम मिल सकते नहीं अब दोबारा ,
मिलेंगे हम खुद ही दिल को झूठे ख़्वाब दिखा रहे है।।

सूखे पत्तों सी सारी जिंदगी की खुशी झड़ गई , 
पता था तुम्हें तेरे बिन जिंदगी का गुजारा मुश्किल। 
ए सनम बस इतना ही बता दे फिर भी क्यों,
मुझे भरी महफिल में ही अकेला छोड़ गई ।।
अंकित कुशवाहा
            ग़ाज़ीपुर   उत्तर प्रदेश 

2 thoughts on “रुला देने वाली दर्द भारी शायरी एक बार जरूर पढे”

  1. Such m aap bhut pyari shayri krte ho , aapko sari shayariya Dil ko chune vali h 🥰👍🏻👍🏻👌🏻best of luck…💯

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top