ankit, poetry

आखिर पलायन कर जाता है.… अंकित

उमीदें बांध कर जब वो छोड़ अपना गांव आता इस जहाँ में अपना सब कुछ कुर्बान कर कोई मंजिल भी पाता नही इस […]